आखिरकार नक्सलियों ने बंधक बनाए हुए जवान को रिहा कर दिया

आखिरकार नक्सलियों ने बंधक बनाए हुए जवान को रिहा कर दिया

 पिछले दिनों हुई तर्रेम मुठभेड़ में बंधक बनाए गए सीआरपीएफ के जवान राकेश्वर मन्हास को नक्सलियों ने रिहा कर दिया है। रिहा होने के बाद उस जवान से केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने फोन पर बात की और उसका हालचाल जाना। 

अपनी रिहाई के बाद सीआरपीएफ के जवान राकेश्वर मन्हास ने अपनी 6 दिनों की नक्सलियों के पास बंधक रहने की सारी गतिविधियां सुनाई। 

उन्होंने कहा कि वह मुठभेड़ के दौरान वह नक्सलियों से घिर गए थे। तब नक्सलियों ने उन्हें समर्पण करने को कहा जिसके बाद कोई चारा ना देख कर उन्हें समर्पण करना पड़ा। साथ ही सीआरपीएफ के जवान ने यह भी बताया की स्थान बदलने के दौरान उनकी आंख पर पट्टी भी बांधी जाती थी। 

इस पूरी घटना में सरकार की ओर से मध्यस्थता के लिए बस्तर के एक वृद्ध एवं गांधीवादी कार्यकर्ता धर्मपाल सैनी और गोंडवाना समाज के प्रमुख मुरैया तरेम सहित कुछ स्थानीय लोग नक्सलियों से बातचीत करने गए जिसके बाद सीआरपीएफ के जवान को रिहा करने का फैसला लिया गया।