कोरोना के नई लहर के कारण एयर लाइन इंडस्ट्री संकट में , तेल उध्योग के बुरे दिन फिर से शुरू : यूरोप

ब्रिटेन में बिना मतलब के यात्रा करने वालों के ऊपर जुर्माने का प्रावधान लाया गया है , अगर कोई ग़ैर ज़रूरी यात्रा करता पाया गया तो उस पर पाँच हज़ार पाउंड का जुर्माना लगाया जाएगा ।

कोरोना के नई लहर के कारण एयर लाइन इंडस्ट्री संकट में ,  तेल उध्योग के बुरे दिन फिर से शुरू : यूरोप
Photo : Google

यूरोप में कोरोना महामारी को लेकर फिर से एक बार लाक्डाउन लगा दिया गया है , जिसके कारण कच्चे तेल उध्योग के फिर से बुरे दिन गएहै , कच्चे तेल के दामों में कुछ दिनो से गिरावट आनी शुरू हो गयी है , जर्मनी , फ़्रांस और इटली में पिछले हफ़्ते से नया लाक्डाउन लगाया गया है वहीं ब्रिटेन में बिना मतलब के यात्रा करने वालों के ऊपर जुर्माने का प्रावधान लाया गया है , अगर कोई ग़ैर ज़रूरी यात्रा करता पाया गया तो उसपर पाँच हज़ार पाउंड का जुर्माना लगाया जाएगा

एयर लाइंस कंपनी ने काम की उड़ाने

लाक्डाउन की पाबंदी के बाद यूरोप में एयरलाइंस को अपनी उड़ाने और भाड़े में कमी करनी पड़ी है , नए प्रतिबंध ठीक ईस्टर की छुट्टीयो पर लगेहै , ईस्टर अगले रविवार को है , ताज़ा लाक्डाउन का मतलब अब कम से कम मई के अंत तक विमान यात्रा सामान्य नहीं हो सकेगी

इस हालत को देखते हुए एयरलाइन्स इंडस्ट्री गहरे संकट में फँस गयी है , बीते हफ़्ते ब्रिटिश एयरवेज की मालिक कंपनी आइएजी के शेयर केभाव 4.4 फ़ीसदी गिरावट दर्ज की गयी है पैकेज ट्रेवेल ऑपरेटर टीयूआई के शेयर के भाव 6.1 गिरा है , इसका सीधा असर कच्चे तेल और इसकारोंबार से जुड़ी कंपनी पर असर पड़ा है , ब्रिटिश पेट्रोलिम कंपनी के शेयर का भाव पिछले हफ़्ते 3.7 फ़ीसदी गिरा है

इस साल के शुरुआत में कच्चे तेल का बाज़ार सुधरने का अंदाज़ा लगाया गया था , इसी कारण मार्च के मध्य तक मार्केट में कच्चे तेल का भावबढ़ रहा था , लेकिन उसके बाद कोरोना की तीसरी लहर आने के बाद सब उल्टा पड़ गया बीते हफ़्ते कच्चा तेल ख़रीददरी के अंतरष्ट्रिय मानकब्रेंट फ़्यूचर का भाव पाँच प्रतिशत गिरा , तेल बाज़ार ओर नज़र रखने वाली वेबसाइट OILprice.com से पता चला है की वो जैसे सुधरो कीउम्मीद कर रहे थे वो अब नहीं होने वाला।