बिहार :TET अभ्यर्थियों के समर्थन में धरना स्थल पर पहुंचे तेजस्वी, कहा- दो दिन के लिए करेंगे व्यवस्था

राजधानी पटना में प्रदर्शन कर रहे TET  अभ्यर्थियों पर पुलिस ने मंगलवार को लाठीचार्ज किया था। इसमें कई अभ्यर्थी  बहुत ही  घायल हो गए थे। बुधवार को टीईटी अभ्यर्थियों की मांगों के समर्थन में  तेजस्वी यादव घटनास्थल पर पहुंचे। उनके साथ राजद के अन्य नेता थे । यहां पहुंचने के बाद पत्रकारों से बातचीत में तेजस्वी यादव ने कहा कि लोकतंत्र में धरना और प्रदर्शन करने का अधिकार है। शातिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे टीईटी अभ्यर्थियों पर लाठीचार्ज निंदनीय है। उन्होंने कहा कि ये लोग शांतिपूर्ण तरीके से अपनी मांगों को उठा सके, इसके लिए दो दिन का हम व्यवस्था करेंगे।

तेजस्वी यादव ने कहा कि कल ये लोग मुझसे मिलने आए थे। इसी के बाद मैं इनके समर्थन में आया हूं। सरकार इनकी बात नहीं सुन रही है, इसलिए विपक्ष को आना पड़ रहा है। विपक्ष से लोगों को उम्मीद है और इसीलिए हम उनके साथ खड़े हैं। टीईटी अभ्यर्थियों के समर्थन में आने पर राजनीति का आरोप लगा तो तेजस्वी यादव ने कहा कि गरीबों को न्याय दिलाना अगर राजनीति है तो ठीक है। नीतीश सरकार पर हमला बोलते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि सत्ता लोभ में यह निक्कमी सरकार राज्य के भविष्य के साथ खिलावड़ कर रही है। उन्होंने आरसीपी टैक्स के बारे मे भी बात किया।

तेजस्वी यादव ने कहा कि हमारा कहना है कि लोगों को रोजगार मिलना चाहिए। पढ़ाई, दवाई, कमाई और सिंचाई के मुद्दे पर हम कायम हैं। अगर सरकार नौजवानों पर लाठीचार्ज करेगी तो आप क्या ही कह सकते हैं। प्रदर्शन करना लोकतांत्रिक अधिकार है। तेजस्वी यादव ने कहा कि पुलिस की कार्रवाई में यहां पर सबकुछ बर्बाद हो गया है। हम इनके लिए दो दिन की व्यवस्था करेंगे।

तेजस्वी यादव काफी देर तक शिक्षक अभ्यर्थियों के बीच रहे । इस दौरान शिक्षक अभ्यर्थियों की शिकायत पर तेजस्वी यादव ने शिक्षक अभ्यर्थियों के सामने ही पहले सरकार के मुख्य सचिव दीपक कुमार और फिर पटना के डीएम चंद्रशेखर सिंह से बात की दोनों अधिकारियों से उनकी बात हो गयी लेकिन डीजीपी साहब को जब उन्होंने फोन लगाया तो बात नहीं हो सकी। पिछले दिनों फोन नहीं उठाने की शिकाय़त किए जाने के बाद अपना फोन नंबर जारी करने वाले डीजीपी साहब ने आज नेता प्रतिपक्ष का फोन भी नहीं उठाया

तेजस्वी यादव ने शिक्षक अभ्यर्थियों के बीच सरकार के मुख्य सचिव दीपक कुमार और फिर पटना के डीएम चंद्रशेखर सिंह ने दोनों अधिकारियों से शिक्षक अभ्यर्थियों को प्रदर्शन के लिए स्थान उपलब्ध कराने की मांग की। गर्दनीबाग में दो दिनों से धरना दे रहे इन शिक्षक अभ्यर्थियों पर मंगलवार को ही पुलिस ने लाठीचार्ज किया था। प्रशासन का कहना था कि इन्हें 21 जनवरी तक धरना देने की इजाजत थी लेकिन 19 तारीख को लाठीचार्ज के बाद आगे का परमिशन रद्द कर दिया गया।

ईको पार्क में शिक्षक अभ्यर्थियों के सामने तेजस्वी यादव ने पहले मुख्य सचिव दीपक कुमार को फोन लगाया। तेजस्वी ने कहा कि धरना देना इनका लोकतांत्रिक अधिकार है। इन्हें गर्दनीबाग से क्यों हटाया गया? पटना DM से बात कर इनके लिए जल्द से जल्द बैठने की व्यवस्था कराई जाए। ऐसा नहीं हुआ तो मजबूरन मुझे भी इनके साथ यहीं धरना पर बैठना पड़ेगा। इसके बाद तेजस्वी ने पटना डीएम चंद्रशेखर सिंह को भी कॉल कर अभ्यर्थियों के लिए जगह देने की मांग की.

 राजधानी पटना में गर्दनीबाग मे  धरना स्थल पर मंगलवार को प्रदर्शन कर रहे टीईटी अभ्यर्थियों पर पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया था। प्राथमिक शिक्षक नियोजन प्रक्रिया को जल्द पूरी करने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे अभ्यर्थी दोपहर बाद धरना स्थल के गेट पर आकर नारेबाजी करने लगे थे। इसके बाद पुलिस द्वारा लाठीचार्ज किया गया। लाठीचार्ज के दौरान एक दर्जन से अधिक अभ्यर्थी घायल हो गए।