कोरोना के ब्राजील, ब्रिटिश और भारतीय वेरिएंट पर प्रभावी है भारत बायोटेक की कोवैक्सीन, स्टडी में हुआ एक खुलासा

कोरोना के ब्राजील, ब्रिटिश और भारतीय वेरिएंट पर प्रभावी है भारत बायोटेक की कोवैक्सीन, स्टडी में हुआ एक खुलासा

भारत बायोटेक की बनाई देसी कोविड -19 वैक्सीन 'कोवैक्सिन' को लेकर इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) और वायरोलॉजी संस्थान के एक नए अध्ययन में पता चला है कि कोवैक्सीन ब्राजील के कोरोना संस्करण SARS-CoV-2, B.1.128.2  के खिलाफ भी प्रभावी है।

ब्राजीलियाई संस्करण में E484K उत्परिवर्तन शामिल है जो संयुक्त राज्य अमेरिका के न्यूयॉर्क में भी पाया गया था। ICMR द्वारा किए गए पिछले अध्ययन से पता चला था कि कोवैक्सीन कोरोना के यूके संस्करण, B.1.1.7, और भारतीय डबल उत्परिवर्ती संस्करण, B.1.617 के खिलाफ भी प्रभावी है। ये अध्ययन बताते हैं कि कोवैक्सीन कोरोनोवायरस के कई रूपों के खिलाफ प्रभावी हो सकती है।

वैक्सीन के चेयरपर्सन डॉ सतीश चंद्रन ने कहा, "हम इस अध्ययन के परिणामों को देखकर खुश हैं क्योंकि यह कई वेरिएंट्स के खिलाफ कोवैक्सीन की संभावित प्रभावशीलता को दिखाता है, जिससे हमारा विश्वास और मजबूत होता है कि यह वैक्सीन संभावित रूप से म्यूटेंट वायरस को फैलने से रोक सकता है।"

Ocugen अमेरिका में स्थित एक बायोफार्मास्युटिकल कंपनी है जो अमेरिकी बाजार के लिए कोवैक्सीन विकसित कर रही है। कंपनी के सह-संस्थापक डॉ शंकर मुसुनुरी ने कहा, “कोवैक्सीन पर आज तक किए गए सभी अध्ययनों में मजबूत परिणाम दिखा रहा है। हम मानते हैं कि इस महामारी से लड़ने के लिए हमारे राष्ट्रीय हथियारों में शामिल करने के लिए यह एक महत्वपूर्ण उपकरण है।

Ocugen टीम ने FDA [फ़ूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन, यूएसए] को एक व्यापक ड्रग मास्टर फ़ाइल सौंपी और वर्तमान में यह कोवैक्सीन के लिए आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण आवेदन तैयार कर रहा है। ”'