CBSE ने कक्षा 6 से 8 के लिए सिलेबस में जोड़ा कोडिंग और डेटा साइंस कोर्स

CBSE ने कक्षा 6 से 8 के लिए सिलेबस में जोड़ा कोडिंग और डेटा साइंस कोर्स

सीबीएसई स्कूलों में नए सत्र से कोडिंग और डाटा साइंस के कोर्स शुरू होंगे। केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने शुक्रवार को ट्वीट कर यह घोषणा की। उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति के तहत हमने यह वादा किया था कि स्कूलों के सिलेबस में कोडिंग और डाटा साइंस को भी शामिल किया जाएगा।

उन्होंने कहा, ‘मुझे खुशी है कि सीबीएसई सत्र 2021 से इस वादे को पूरा करने जा रहा है। माइक्रोसॉफ्ट के सहयोग से सीबीएसई भारत की भावी पीढ़ियों को नए जमाने के कौशल सिखाकर सशक्त बना रहा हैं।

सीबीएसई ने कहा है कि कोडिंग को कक्षा 6 से 8 तक में 12 घंटे के स्किल मोड्यूल के तौर पर शामिल किया जाएगा। इससे बच्चों में तार्किक तौर पर सोचने की क्षमता बढ़ेगी। वह आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के बारे में जान सकेंगे। बोर्ड ने कहा कि डाटा साइंस विषय को कक्षा 8 में 12 घंटे के स्किल मोड्यूल के तौर पर शामिल किया जाएगा जबकि कक्षा 11वीं व 12वीं में इसे स्किल सब्जेक्ट के तौर पर शामिल किया जाएगा।
Microsoft इंडिया के कार्यकारी निदेशक नवतेज बल ने कहा, "कोडिंग और डेटा साइंस जैसे कौशल भविष्य की मुद्रा हैं. स्कूली पाठ्यक्रम में इन्‍हें शामिल करने से भारत के भावी कार्यबल को भविष्‍य की नई दुनिया के लिए तैयार करने में एक मजबूत मदद होगी. हम आज के छात्रों को कल की दुनिया बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं और CBSE के साथ हमारी साझेदारी उस दिशा में एक मजबूत कदम है."