Chhath Puja Arag Time 2020: छठ पूजा का चौथा और अंतिम दिन आज उषा सूर्य को अर्घ्य देगें।

Chhath Puja Arag Time 2020: छठ पूजा का चौथा और अंतिम दिन आज उषा सूर्य को अर्घ्य देगें।

चार दिवसीय छठ महापर्व कल छठ पूजा का चौथा और अंतिम दिन है। इस दिन, इस पर्व के दौरान उपवास रखने वाले घुटने के गहरे पानी में खड़े होते हैं और सूर्य देव और छठी मैया को अर्घ्य देते हैं। व्रत मुख्य रूप से महिला लोगों द्वारा बेटों की सलामती और परिवार की खुशहाली के लिए मनाया जाता है। 

_छठ पूजा की सूर्य देव को अर्घ्य अर्पित करे ने की सामग्री_*

3 बड़े बांस की टोकरियाँ, 3 बांस या पीतल की बनी हुई थाली, दूध और गिलास ,चावल, लाल सिंदूर, दीपक, नारियल, हल्दी, गन्ना, सुथनी, सब्जी और शकरकंद,नाशपाती, बड़े नींबू, शहद, पान, पूरे झुंड, कारवां, कपूर, चंदन और मिठाई,प्रसाद के रूप में आक, मालपुआ, खीर-पूड़ी, सूजी का हलवा, चावल के लड्डू लें।

छठ पूजा : उषा अर्घ्य 21 नवंबर को किया जाएगा।

सूर्य सुबह 06:49 बजे उठने की उम्मीद है। 

_छठ पूजा अर्घ्य विधान_*

छठ पूजा की समग्री को बाँस की टोकरी में रखें। प्रसाद को सुपे में रखें और दीप को दीपक में जलाएं। फिर, सभी महिलाएं सूर्य को अर्घ्य अर्पित करने के लिए अपने हाथों में पारंपरिक सुपा के साथ घुटने के गहरे पानी में खड़ी होती हैं ओर अर्घ्य देती हैं। उगते सूर्य को अर्घ्य देने के बाद 36 घंटे का लंबा उपवास तोड़ा जाता हैं।उसके लिए घाट से लौटते हुए, महिला को शरबत और दूध पीने और उनका व्रत तोड़ने के लिए प्रसाद खाना होता हैं। 

हैलो दोस्तों! Jharkhand Khabri के साथ जुड़ने के लिए आपका तहे दिल से शुक्रिया. Jharkhand khabri एक ऐसा प्लेटफार्म है, जहां हम आपको मेनस्ट्रीम मीडिया से गायब हुए, असल मुद्दे बताते हैं. Jharkhand Khabri के ज़रिए हम आप तक बिल्कुल ताजा और कड़क ख़बर पहुंचाते हैं, बिल्कुल आपकी सुबह की चाय की तरह. खबरों के डेली डोज की जिम्मेदारी आप Jharkhand Khabri पर छोड़ दिजिए. आप बस जिंदगी के मजे लिजिए.