अंतरराष्ट्रीय मीडिया को कोरोना जांच के लिए अनुमति दे चीन

अंतरराष्ट्रीय मीडिया को कोरोना जांच के लिए अनुमति दे चीन

कई विशेषज्ञों का यह मानना है कि कोरोना का मूल या यूं कहें की इसकी उत्पत्ति जहां से हुई वह है चीन का वुहान शहर है. माना जा रहा है कि चीनी लैब वुहान इंस्टीट्यूट आफ वायरोलॉजी में चल रहे एक टेस्ट के दौरान यह वायरस फैल गया. अपनी इन्हीं आशंकाओं की जांच करने के लिए जरूरी है कि चाइना जाकर एक सिलसिलेवार तरीके से जांच की जाए. चुकी चाइना का अपने देश की मीडिया पर पूरी तरह से नियंत्रण है, इसलिए चाइना के अंदर होने वाली किसी कोई भी भी घटनाक्रम का जिक्र वैश्विक पटल पर सामने नहीं आता. इन्हीं कारणों से इसकी जांच अंतरराष्ट्रीय मीडिया करना चाहती थी और चाइना में जानकारी उपलब्ध कराने के मकसद से गई. परंतु चाइना ने उन्हें अनुमति देने से इंकार कर दिया. ऐसे में कई सवाल खड़े होते हैं कि क्या आखिर चाइना अपने किए गए इस गलती पर पर्दा डालना चाहता है. इस पर अमेरिका ने भी खुलकर चाइना का विरोध किया है और कहा है की चाइना कोरोना वायरस के स्रोत तक पहुंचने में सहयोग करें. 

अमेरिका के विदेश मंत्री एंटोनी ब्लिंकन ने तो एक इंटरव्यू के दौरान कहा की कहा कि अमेरिका, कोरोना के उत्पत्ति की जड़ तक पहुंचना चाहता है. परंतु चीन इसकी जांच की अनुमति नहीं दे रहा. इसलिए कोरोना को लेकर चाइना को जवाबदेह ठहराए जाने की आवश्यकता है. वैश्विक स्तर पर भी कोरोना को लेकर चाइना की खासी किरकिरी हो चुकी है. परंतु चाइना इन आलोचनाओं के बाद भी अपने रवैया से बाज नहीं आ रहा.