5 दिन की थी तब कोरोना ने मां को छीन लिया जब पड़ी दूध की जरूरत तो 30 मां सामने आई

5 दिन की थी तब कोरोना ने मां को छीन लिया जब पड़ी दूध की जरूरत तो 30 मां सामने आई

तमाम निराशजनक खबरों के बीच ये एक इंसानियत को जिंदा रखने वाली खबर सामने आई है।

भोपाल- एक नवजात ने अपनी मां को को दिया इस कोरोना के कारण लेकिन राहत की बात यह है उस सहर में 1 घंटे में 30 से जायदा माए सामने आई इस 10 दिन के नवजात को दूध पिलाने के लिएं। शाम होने तक फोन कॉल्स की संख्या 60 से ज्यादा पहुंच गई थी। यह सच्ची खबर है की उस 10 दिन की अभी चिरायु अस्पताल में भर्ती है। इस दुनिया में आने के 5 ही दिन बाद उसकी मां उस नवजात से छीन गई। 

रायसोन रोड स्थित ( परिवर्तित नाम ) को साढ़े सात महीने का गर्भ था। इसी बीच वो 5 अप्रैल को कोरोना पॉजिटिव हो गई। परिजनों ने रजनी को 9 अप्रैल को चिरायु अस्पताल में भर्ती किया गया। और 11 अप्रैल को उसकी सिरीजन डिलीवरी हुई। और रजनी ने बेटी को जन्म दिया। 

इस कोरोना काल में रजनी के घर एक खुसिया की सौगात आई थी। लेकिन सैयद भगवान को ये खुशी मंजूरी नहीं थी। वही 15 अप्रैल को इलाज के दौरान रजनी की मौत हो गई। और इधर बची का कोरोना जांच हुआ। भगवान की लीला थी की बच्ची का रिपोर्ट नेगेटिव आया। लेकिन बच्ची का प्री मैच्योर डिलीवरी से बच्ची का इलाज अभी चल रहा था। साथ ही बच्ची हफ्ते भर पाउडर वाले दूध पी रही थी तो डॉक्टर ने मां के दूध का जरूरत बताई। अब परिजनों के सामने संकट आ रहा था की मां की दूध का इंतजाम कहा से करे इसी बीच इस नन्ही सी जान का हवाला देते हुए मां की दूध का जरूरत वाला एक संदेश सोशल मीडिया पर जारी कर दिया। जैसे ही यह संदेश वायरल हुआ परिजनों के मोबाइल पे फोन कॉल्स आने लगे। और यह कॉल्स का सिलसिला चलता रहा। इसी से इंसानियत का अंदाजा लगाया सकता है। की घंटे भर में ही उनके पास 30 कॉल्स आए और शाम तक 60 लोगो से ज्यादा की फोन कॉल्स आएं। और शहरवासियों की इस मदद से परिजनों को दोपहर में ही दूसरा संदेश जारी कर लोगो को बताया की बच्ची के लिए प्राप्त मात्रा में मां का दूध मिल गया है। 

साथ ही कुछ लोगो ने बच्चे को खुद का आंचल देने की भी बात कही। बची की पिता से जिन माताओं ने संपर्क किया है उनको यह बताए गया है की बच्ची को एक वक्त में 8 - 10 ml दूध ही चाहिए। ऐसे में माताएं उतना ही दूध दे।, ताकि किसी मां का अनमोल दूध वयर्थ ना जाए। थी नही साथ ही कुछ लोगो ने यह भी कहा की जब तक नवजात को जरूरत है उनको अपने पास रखने की भी बात कही।