वैक्सीन की कमी से हो रही मौतें अब भी है चिंता का विषय

वैक्सीन की कमी से हो रही मौतें अब भी है चिंता का विषय

सरकार एक ओर जहाँ वैक्सीन की आपूर्ति का दावा करती है, तो वहीं दूसरी ओर वैक्सिंग की कमी से हो रही मौतें सरकार के इन दावों का पोल खोल रही है। केवल वैक्सीन ही नहीं बल्कि कुछ राज्यों में ऑक्सीजन की कमी से भी मौतें हो रही हैं और यदि ऐसा है तो फिर सरकार को वर्तमान में उपलब्ध वैक्सीन और ऑक्सीजन के आंकड़े बताना चाहिए कि आखिर सरकार के पास कितने वैक्सीन और कितनी ऑक्सीजन की कितनी मात्रा उपलब्ध है।

पिछले दो दिनों में गोवा में भी ऑक्सीजन की कमी से 20 से ज्यादा लोगों की मौतें हो चुकी हैं। गोवा की सरकार ने यह दावा किया कि उनके पास ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है, पर फिर भी इन दावों की पोल संक्रमितों की मृत्यु होने से खुल गई। इसके अलावा कुछ समय पहले महाराष्ट्र सरकार ने भी यह बयान दिया था की देश में वैक्सीन की कमी है परंतु केंद्र ने उनके इस दावे को झूठा करार देते हुए कहा कि देश में ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है। सरकार अपने प्रबंधन को ठीक करे। ऑक्सीजन और वैक्सीन को लेकर आए दिन कई समस्याएं दिखाई दे रही हैं यह समय समस्याएं सरकार की स्वास्थ्य व्यवस्था के ऊपर प्रश्नचिन्ह लगाती है। वास्तव में क्या देश में सचमुच ऑक्सीजन और वैक्सीन की कोई कमी नहीं है और अगर यदि ऐसा है तो फिर यह मौतें क्यों हो रही है। कोरोना से हो रही मौतें एक चिंता का विषय है और वह भी तब जब सरकार यह कह रही हो कि उसके पास ऑक्सीजन और वैक्सिंग की कोई कमी नहीं है।