HC का केंद्र को आदेश- दिल्ली को हर हाल में आज 490 MT ऑक्सीजन मिले 

HC का केंद्र को आदेश- दिल्ली को हर हाल में आज 490 MT ऑक्सीजन मिले 

कोरोना संकट के बीच दिल्ली में ऑक्सीजन की किल्लत पर एक तरफ दिल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई चल रही थी, दूसरी तरफ राजधानी के बत्रा अस्पताल में मरीजों को जान गंवानी पड़ी. हाई कोर्ट में सुनवाई के दौरान दिल्ली के बत्रा अस्पताल की तरफ से ये बताया ही जा रहा था कि उनके पास बहुत ऑक्सीजन बची है, इसी दौरान कुछ ही देर बाद खबर आई कि बत्रा में ऑक्सीजन की कमी से 8 मरीजों की मौत हो गई है, जिसमें एक डॉक्टर भी शामिल थे. 

हालांकि, बत्रा अस्पताल को इस बीच ऑक्सीनज की सप्लाई भी पहुंच गई लेकिन तक तक काफी देर हो चुकी थी. अस्पताल की तरफ से जारी बयान में बताया गया है, ''हमें समय पर ऑक्सीजन नहीं मिली, दोपहर 12 बजे ही हमारी ऑक्सीजन खत्म हो चली थी और हमें डेढ़ बजे सप्लाई मिली. हमने जिंदगी गंवा दी हैं, जिसमें हमारे अपने एक डॉक्टर थे.''

सुनवाई के दौरान बत्रा अस्पताल ने हाईकोर्ट को बताया था कि हमारे पास केवल एक घंटे की ऑक्सीजन बची है. बत्रा अस्पताल ने हाई कोर्ट से कहा कि हम हर रोज कुछ घंटे संकट में बिता रहे हैं, ये चक्र खत्म नहीं हो रहा.

इस पूरे मुद्दे पर दिल्ली सरकार ने कोर्ट से कहा है कि दिल्ली के ऑक्सीजन टैंकरों को प्राथमिकता नहीं दी जा रही है. दिल्ली को हर रोज संघर्ष करना पड़ रहा है. इसे जानने के लिए हमें स्क्रीन के पीछे क्या चल रहा है उसकी तह तक जाना होगा. हमारे अधिकारी हर रोज नर्वस ब्रेकडाउन की कगार पर हैं.इस बीच अधिवक्ता विराट गुप्ता ने अपनी अपील में कहा है कि वे जानते हैं कि 12 राजनीतिक पार्टियां ऑक्सीजन की ब्लैक मार्केटिंग में लगी हुई हैं.

हाईकोर्ट ने केंद्र को निर्देश दिया है कि ''किसी भी हाल में आज 490 MT ऑक्सीजन पहुंचनी चाहिए. अगर इसका पालन नहीं किया गया तो अदालत अवमानना की कार्रवाई कर सकती है. अगर ये काम पूरा नहीं होता है तो DPIIT के सचिव को अगली सुनवाई में अदालत के सामने हाजिर होना पड़ेगा. अब पानी सर से ऊपर चढ़ चुका है,''

बत्रा अस्पताल ने कोर्ट को बताया कि हमने एक whasapp ग्रुप पर भी ऑक्सीजन के लिए रिक्वेस्ट की, जो कल ही ऑक्सीजन सप्लायर्स, दिल्ली सरकार के अधिकारियों और अस्पतालों के प्रतिनिधियों को मिलाकर बनाया गया है. उस पर हमें रेस्पोंस मिला कि 'अभी हमें डिस्टर्ब न करें'

इस पर दिल्ली हाईकोर्ट ने बत्रा अस्पताल के MD से कहा ''आपको शांत रहने की जरूरत है, आपके लिए गुस्सा सही नहीं, आप डॉक्टर हैं, अगर आप भी  कंट्रोल खोएंगे तो बाकी लोगों का क्या होगा. सभी लोग सप्लाई चैन की बेहतरी के काम में लगे हुए हैं.'' दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार को निर्देश दिया है कि वो शीघ्र ही बत्रा अस्पताल की मदद करे.

कोर्ट में लंबी सुनवाई के बाद बत्रा अस्पताल को ऑक्सीजन तो भेजी गई लेकिन उससे पहले ही वहां 8 मरीज दम तोड़ चुके थे.

सेना से क्यों मदद नहीं मांगी

वहीं, इस मामले की सुनवाई के दौरान दिल्ली सरकार ने कहा कि सरकार राजधानी में बेड़ों की संख्या 150000 तक बढ़ाने जा रही है. हम 15 हजार अतिरिक्त बेड लगा रहे हैं, लेकिन हमारे पास इन बेड्स के लिए ऑक्सीजन नहीं है. इस पर दिल्ली हाई कोर्ट ने सवाल उठाया और कहा कि दिल्ली सरकार ने अबतक आर्मी, नेवी और एयरफोर्स की मदद के लिए अबतक रिक्वेस्ट क्यों नहीं की है.