मजबूरन ईंट भट्टे पर करना पर रहा काम, फुटबॉलर संगीता सोरेन को मिलेगी आर्थिक मदद

मजबूरन ईंट भट्टे पर करना पर रहा काम, फुटबॉलर संगीता सोरेन को मिलेगी आर्थिक मदद

आर्थिक मजबूरियों के कारण फुटबॉलर संगीता सोरेन को करना पर रहा है भट्टे पर काम. उन्होंने नौकरी की प्रयास तो काफी की परंतु कही से कुछ भी उम्मीद नहीं मिली. मजबूरन उनको ऐसे में उन्हें ईंट भट्टे पर काम करना परा. ताकि वह अपने परिवार का गुजर- बसर कर सकें. 

झारखंड की रहने वाली फुटबॉलर संगीता सोरेन और उनका परिवार मुफलिसी की जिंदगी जीने को हुआ मजबूर. संगीता ने कुछ दिन पहले झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से भी मदद की गुहार लगाई थी तब उनको आश्वासन भी दी गई थी,परंतु कुछ हों नही पाया. वहीं फुटबॉलर संगीता की कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हुई जिसके बाद राष्ट्रीय महिला आयोग (CWC) is मामले पर सक्रिय हुआ. 

संगीता के पिता नेत्रहीन हैं.जिसके वजह से वह कोई काम नही कर पाते हैं. उनका भाई दिहाड़ी मजदूरी करता है. परंतु इस कोरोना महामारी में कमाई पर काफी असर पड़ रहा है. ऐसे में संगीता को ही परिवार वालो के पेट भरने के लिए आगे आना परा है. उन्होंने नौकरी के लिए भी काफी प्रयास किया लेकिन कुछ न हो सका. मजबूरन उनको ईंट भट्टे पर काम करना पर रहा है. कुछ दिन पहले मुख्यमंत्री के आश्वासन देने पर भी कुछ नही हो पाया. अब महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने संगीता के मदद के लिए राज्य के मुख्य सचिव को पत्र लिखा है. वहीं आयोग ने संगीता को एक अच्छी नौकरी देने को भी कहा है. ताकि फुटबॉलर सम्मान के साथ अपने और अपने परिवार वालो का गुजारा कर सके. 

फुटबॉलर संगीता अंडर-17, अंडर-18 और अंडर-19 स्तर पर देश का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं. और 2018-19 में अंडर-18 भारतीय महिला फुटबॉल टीम का भूटान और थाइलैंड में में प्रतिनिधित्व किया था. इसके बाद वह 2020 में सीनियर राष्ट्रीय टीम में शामिल हुईं और राष्ट्रीय टीम में स्ट्राइकर के तौर पर खेलीं.