काेराेना काल में तय राशन के साथ मुफ्त अनाज का वितरण नही किया गया

काेराेना काल में तय राशन के साथ मुफ्त अनाज का वितरण नही किया गया
Free grain was not distributed with fixed ration during the Kareena period

सरकारी राशन दुकानों से लाभुकों काे राशन बांटने में डीलरों ने बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की है। काेराेना काल में अप्रैल से अक्टूबर तक लोगों को तय राशन के साथ प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत मुफ्त अनाज का वितरण करना है। लेकिन दुकानदाराें ने उन्हें एक ही राशन दिया। दूसरी योजना का अनाज बांटा ही नहीं गया। इसका खुलासा प्रशासन की छापेमारी में हुआ है। छापामारी में डीलराें के गाेदाम में बड़ी मात्रा में अनाज जब्त किया गया।


कोरोना काल में प्रधानमंत्री खाद्यान्न योजना व अन्य याेजनाओं के तहत लाभुकाें काे प्रति यूनिट की दर से चावल, गेहूं, चीनी, चना, नमक का वितरण किया जा रहा है। जब्त खाद्यान्न की छानबीन की जा रही है। अधिकारियाें ने कहा कि अनाज की कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। राशन की कालाबाजारी और अनाज की जब्ती के बाद जिला प्रशासन ने मामले की जांच के लिए मजिस्ट्रेट की नियुक्ति की है।जमशेदपुर के सात डीलरों के यहां जांच होगी।
साकची में हावड़ा ब्रिज के पास स्थित गोदाम से शनिवार काे बड़ी मात्रा में राशन का अनाज बरामद किए जाने के मामले में मार्केटिंग ऑफिसर जयप्रकाश श्रीवास्तव के बयान पर गोलमुरी थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई है।