अश्वेत अफ्रीकी-अमेरिकी जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या (Murder) के मामले के दोषी पूर्व पुलिस अधिकारी डेरेक चॉविन (Derek Chauvin) को 22 साल 6 महीने जेल की सजा

जॉर्ज फ्लोएड मर्डर केस में डेरेक चॉविन को 22 साल 6 महीने की सजा _ Black lives matter

अश्वेत अफ्रीकी-अमेरिकी जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या (Murder) के मामले के दोषी  पूर्व पुलिस अधिकारी डेरेक चॉविन (Derek Chauvin) को 22 साल 6 महीने जेल की सजा

बीते साल ब्लैक लाइफ मैटर के नाम पर चल रहे आंदोलन में पूरे अमेरिका में गरमा गर्मी का माहौल बना दिया था। और सुबह अफ्रीकी अमेरिकी जॉर्ज फ्लोएड के साथ की गई बर्बरता ने पुलिस से लोगों का भरोसा उठा दिया था। आंदोलन की आग में कई महीनों तक लगातार चलता रहा था अमेरिका। जॉर्ज फ्लाइट की मौत के बाद पुलिस का पक्ष लेते दिखे थे डोनाल्ड ट्रंप उसके बाद उन्हें भारी विरोध का सामना करना पड़ा था कहीं ना कहीं बताया जाता है कि उनके हार की एक वजह यह भी है।

अश्वेत अफ्रीकी-अमेरिकी जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या (Murder) के मामले में दोषी पाए गए पूर्व पुलिस अधिकारी डेरेक चॉविन (Derek Chauvin) को 22 साल 6 महीने जेल की सजा सुनाई गई है. फ्लॉयड परिवार के वकील ने अदालत के इस फैसले को 'ऐतिहासिक' बताया है. हालांकि, अभियोजन पक्ष ने चॉविन को 30 साल की सजा दिए जाने की मांग की थी. खास बात यह है कि फ्लॉयड की मौत के बाद ही अमेरिका (US) में 'ब्लैक लाइव्स मैटर' के बैनर तले भारी विरोध प्रदर्शन हुआ था.

शुक्रवार को मिनेपोलिस कोर्ट में मौजूद 45 साल के चॉविन ने सजा सुनाए जाने से पहले फ्लॉयड के परिवार के साथ संवेदनाएं जाहिर की, हालांकि इस दौरान उन्होंने परिवार से माफी नहीं मांगी.

जज पीटर काहिल ने कहा कि यह सजा पद और अधिकार का दुरुपयोग और जॉर्ज फ्लॉयड के खिलाफ दिखाई गई क्रूरता पर आधारित है.

एपी के अनुसार, काहिल ने सजा सुनाए जाने के बाद लंबे समय तक बात नहीं की, लेकिन उन्होंने इस फैसले को समझाते हुए एक 22 पन्नों का मेमोरेंडम जारी किया है. उन्होंने कहा कि यह 'ज्यादा गहन या चतुर' होने का 'सही समय' नहीं था. उन्होंने कहा कि उनका निर्णय 'भावना या हमदर्दी' पर आधारित नहीं है, लेकिन उन्होंने इस दर्द स्वीकार किया, जो फ्लॉयड की मौत की वजह से समुदाय को हुआ है, परिवार को हुवा है।

मई 2020 में चॉविन और उनके तीन सहकर्मियो ने 46 साल के फ्लॉयड को 20 डॉलर का फर्जी नोट चलाने के आरोप में पकड़ा था. इस दौरान उन्होंने जमीन पर पड़े फ्लॉयड की गर्दन को घुटने से करीब 10 मिनट तक दबाए रहा. इस दौरान फ्लॉयड लगातार दम घुटने की बात कह रहा था. पास से गुजर रही एक महिला ने मामले का वीडियो बनाया, जो कुछ ही समय में वायरल हो गया. इसके बाद कोविड-19 महामारी के चलते अपने घरों में कैद बड़ी संख्या में लोग बाहर आ गए थे और जमकर प्रदर्शन किया था.