झारखंड में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा नहीं निकलने पर बीजेपी हेमंत सरकार पर हुई हमलावर,बीजेपी के नेताओं कहा -सरकार हिंदुओं की आस्था और परंपरा को निशाना बना रही है

झारखंड में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा नहीं निकलने पर बीजेपी हेमंत सरकार पर हुई हमलावर,बीजेपी के नेताओं कहा -सरकार हिंदुओं की आस्था और परंपरा को निशाना बना रही है

झारखंड में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा नहीं निकलने पर बीजेपी हेमंत सरकार पर हमलावर है. बीजेपी के नेताओं का आरोप है कि सरकार हिंदुओं की आस्था और परंपरा को निशाना बना रही है. पूर्व सीएम बाबूलाल मरांडी ने कहा है कि सरकार का मकसद सिर्फ रथयात्रा रोकना था. उन्होंने कहा कि कोविड गाइडलाइन के नाम पर रांची की सदियों की परंपरा रथयात्रा नहीं निकली. भगवान जगन्नाथ अपने मौसीबाड़ी नहीं जा सके. इसके बावजूद मंदिर परिसर में भीड़ जुटती रही. मजिस्ट्रेट बस देखते रह गये. मतलब साफ है निशाने पर केवल आस्था और परंपरा ही थी. मकसद केवल रथयात्रा रोकना था और कुछ नहीं.

इससे पहले पूर्व सीएम रघुवर दास ने भी ऱथयात्रा नहीं निकलने पर हेमंत सरकार पर हमला किया. उन्होंने ट्विट कर कहा था कि ”मुख्यमंत्री जी आपने रथ यात्रा की अनुमति न देकर हिंदुओं की भावना व छोटानागपुरी परंपरा को ठेस पहुंचाई है. यह इच्छा शक्ति की कमी व निर्णय लेने में अक्षमता का परिणाम है. क्या ओडिशा व गुजरात में कोरोना नहीं है? वहां सरकार ने कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए यात्रा को मंजूरी दी है.

उधर बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश का कहना है कि झारखंड सरकार सनातन आस्था पर प्रहार करने का एक भी मौका नहीं चूक रही है. इनके एक आंख में काजल तो दूसरे में सुरमा है. जब पूरी में भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा कोरोना नियमों का पालन कर निकाली जा सकती है तो फिर झारखंड में क्यों नहीं ? उनका कहना है कि झारखंड सरकार सनातन परंपरा के साथ लगातार खिलवाड़ कर रही है, चाहे वह छठ हो, दुर्गा पूजा हो या रथ यात्रा.