महाशिवरात्रि के पावन अवसर पर कैसे करें जलाभिषेक, पूरी होगी हर मनोकामनाएं

महाशिवरात्रि के इस पावन अवसर पर कैसे करें जलाभिषेक पूरी होगी हर मनोकामना

महाशिवरात्रि के पावन अवसर पर कैसे करें जलाभिषेक, पूरी होगी हर मनोकामनाएं

आज 11 मार्च को 23 फरवरी महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जाएगा हिंदू पंचांग के अनुसार हर साल फागुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जाता है इस वर्ष महाशिवरात्रि पर विशेष योग बन रहा है इस दिन शिव योग के साथ सिद्धि योग बन रहा है ऐसी मान्यता है कि इस दिलजले अभिषेक करने से शिव भक्तों पर भगवान की कृपा बरसेगी कृपा से शिव भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती है।

इस बार शिवरात्रि पर त्रयोदशी चतुर्दशी तिथि एवं त्रयोदशी पर रही है इसीलिए जल अभिषेक का महत्व और भी बढ़ गया है हिंदू धर्म शास्त्रों के अनुसार महाशिवरात्रि पर्व पर शिव चतुर्दशी में जलाभिषेक का विधान बताया गया है कि तिथि 10 मार्च को दोपहर बाद 2 .40 मिनट से शुरू हो रही है और यह 11 मार्च को 2.40 बजे त्रयोदशी समाप्त हो जाएगी उसके बाद तुरंत चतुर्दशी प्रारंभ हो रही है।

ऐसे में शिवालयों में जलाभिषेक चले 11 मार्च को सुबह 4:00 बजे से शुरू होकर पूरे दिन चलता रहेगा वही चतुर्दशी का जलाभिषेक चतुर्दशी 11 मार्च को अपराहन 3:00 बजे से शुरू होगा शाम तक चलेगा हमारा शिवरात्रि का काल का सर्वोत्तम समय होता है 11 मार्च को रात 12:00 बजे 6:00 मिनट से 12:55 तक रहेगा।