कोरोना के चलते बारात को करना पड़ा मना

किसी भी लड़की व लड़का को शादी के लिए बहुतर अरमान होत हैं। दोनों के जीवन की यह ऐसी घड़ी होती है जो उन्हें पूरे जीवन याद रहता है। ऐसे में कोरोना माहमारी ने कई लोगों के अरमानों पर पानी फेर दिया है तो कई लोग इस माहमारी में भी जान जोखिम में डाल कर अपने अरमान पूरा कर लेते हैं। लेकिन, बेतिया के बिट्टू व बगहा की अंशु ने कोरोना माहमारी से अपने व अपने परिवारवालों के साथ-साथ रिश्तेदारों को बचाने के लिए अपने अरमानों की आहुति दे दी।

दरअसल बगहा के रत्नमाला वार्ड 31 निवासी मंटू राउत एवं सुखमीना देवी की सुपुत्र कुमारी अंशु की शादी बेतिया के तीनलालटेन निवासी हरेंद्र किशोर राउत और गीता देवी के सुपुत्र विकास कुमार उर्फ बिट्टू से तय हुई थी। 23 अप्रैल को बेतिया से रत्नमाला शादी के लिए बारात आनी थी। सब कुछ तय था, लेकिन कोविड के बढ़ते प्रकोप और सरकार के दिशा निर्देश के आलोक में वधु पक्ष और वर पक्ष की सहमति से बारात लाना स्थगित कर दिया गयाकोरोना के चलते बारात को करना पड़ा मना।