एंड्यू टायु बोले लोगों को अस्पताल नहीं मिल रहे तब फ्रेंचाइजी इतने पैसे कैसे खर्च कर रही


भारत में कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों के कारण आई पी एल 2021 को बीच में छोड़कर ऑस्ट्रेलिया रवाना हुए राजस्थान रॉयल्स के तेज गेंदबाज एंड्रयू टाय। उन्होंने आश्चर्य जताते हुए कहा कि जब भारत में इतनी बड़ी स्वास्थ्य समस्या है तब फ्रेंचाइजी क्रिकेट पर इतनी बड़ी रकम कैसे खर्च कर रही है । हालांकि टाय का कहाना यह भी है  कि अगर आईपीएल से कोविड पीड़ित लोगों का तनाव कम हो रहा है या उम्मीद की कोई किरण देख रही तो इसे जारी रखना चाहिए। 


एंड्रयू टाय ने कहा कि  इसे  अगर भारतीय दृष्टिकोण से देखें तो यह कंपनियां और फ्रेंचाइजी सरकार ऐसे समय में आई पी एल पर पैसे  खर्च कर रही जब देश में लोगों को अस्पताल नहीं मिल पा रही है । उन्होंने क्रिकेट डॉट कॉम डॉट एयू से कहा अगर खेल के जारी रहने से लोगों का तनाव दूर होता है या आशा  की एक झलक दिखती  तो मुझे लगता है कि इसे जारी रखना चाहिए। 
उन्होंने कहा लेकिन मैं मानता हूं कि हर किसी का सोचने का तरीका एक नहीं होता है और मैं सभी के विचारों का सम्मान करता हूं । उन्होंने कहा कि आईपीएल में खिलाड़ी सुरक्षित है लेकिन उनके मन में यह सवाल रहता है कि वह कब तक सुरक्षित रहेंगे । 34 साल के खिलाड़ी ने भारत में कोरोना मामलों के बढ़ने के कारण अपने देश में प्रवेश निषेध होने की आशंका से आईपीएल बीच में ही छोड़ दिया। 


टाय ने राजस्थान रॉयल्स के लिए अभी तक एक भी मैच नहीं खेला था और उन्हें 10000000 रुपए में खरीदा गया था। 
ऐसे देखा जाए तो टाय का कहना गलत भी नहीं है। जब देश में ऐसे हालात है तो फ्रेंचाइजी को इतना पैसा खर्च करने की क्या जरूरत है । उसे बेहतर यही होगा कि वह देश में हो रही किल्लत को दूर करें जिससे देश की हालत सुधर सके। वैसे तो सभी जानते हैं कि देश की आर्थिक स्थिति अभी कीतनी बुरी   है वैसे मैं सरकार का इतना पैसा खर्च करना मनोरंजन के लिए हमें नहीं लगता है कि यह सही है।