हत्यारी शबनम ने फांसी के फंदे से बचने के लिए दोबारा लगाई दया की गुहार

13 साल पहले प्रेमी लिए की थी सात हत्या

हत्यारी शबनम ने फांसी के फंदे से बचने के लिए दोबारा लगाई दया की गुहार

13 साल पहले मां-बाप सहित सात लोगों की हत्या में फांसी की सजा पाई शबनम ने दोबारा दया की गुहार लगाई है। बृहस्पतिवार  को शबनम के वकील उससे मिलने रामपुर जेल पहुंचे। वकीलों ने दया याचिका पर शबनम से साइन की और इसे जेल प्रशाासन को सौंप दिया। कहा जा रहा है की जेल प्रशासन इसे राज्यपाल को भेजेगा । गुनहगार शबनम डेथ वारंट पर कभी भी हस्ताक्षर हो सकते हैं और इसके बाद उसकी फांसी की तारीख तय हो जाएगी। 

रामपुर के जेल अधीक्षक पीडी सलौनिया ने बताया कि शबनम के दो वकील सुप्रीम कोर्ट से गुरुवार को रामपुर जेल आए थे। वे दोबारा दया याचिका तैयार करके लाए थे, जिस पर शबनम के हस्ताक्षर कराए गए  हैं। उसे राज्यपाल को भेजा जाएगा। शबनम के खुुद दया याचिका दायर करने से पहले आज ही शबनम के बेटे ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से अपनी मां की फांसी की सजा को माफ करने की अपील की थी।बता देगी बुलंदशहर के सुशीला विहार कॉलोनी में रहने वाले उस्मान सैफी को शबनम की इकलौती संतान की जिम्मेदारी सौंपी गई है। शबनम के बेटे का जन्म जेल में ही हुआ था जब उसकी उम्र 6 साल हुई तो उसे जेल से बाहर लाया गया।

कॉल डिटेल से खुुला था हत्या का राज : 

बावनखेड़ी कांड की तफ्तीश के दौरान पुलिस ने जब शबनम की कॉल डिटेल निकलवाई तो सारा राज खुल गया। हत्याकांड की रात में शबनम और उसके प्रेमी सलीम के बीच 52 बार फोन पर बातचीत हुई थी। पुलिस ने पाया कि शबनम ने 3 महीने में एक नंबर पर 900 से ज्यादा बार फोन किया था।

ऐसे किए थे सात मर्डर
शबनम और सलीम ने अपना गुनाह कुबूल करते हुए बताया था कि सलीम ने शबनम को जहर लाकर दिया था, जो 14 अप्रैल 2008 की रात शबनम ने रात में खाने के बाद घरवालों की चाय में मिला दिया था। सभी घरवालों ने चाय पी. इसके बाद वे सब एक-एक कर मौत के मुंह में समाते चले गए। इसके बाद शबनम ने फोन कर सलीम को अपने घर बुलाया। सलीम कुल्हाड़ी लेकर वहां आया था. उसने वहां आकर शबनम के सब घरवालों के गले काट डाले. यही नहीं वहां मौजूद शबनम के दस वर्षीय भांजे को भी गला घोंट कर मार डाला था।