झारखंड में सबसे बड़ा साइबर क्राइम, मुआवजा देने को रखे 10 करोड़ रुपये साइबर अपराधियों ने उड़ाए.

झारखंड में सबसे बड़ा साइबर क्राइम, मुआवजा देने को रखे 10 करोड़ रुपये साइबर अपराधियों ने उड़ाए.

झारखंड में अब तक का सबसे बड़ा साइबर क्राइम का मामला सामने आया है। मामला गढ़वा जिला का है। यहां साइबर अपराधियों ने 10 करोड़ रुपये उड़ा लिए हैं। ये पैसे किसानों को मुआवजा देने के लिए रखे गए थे।

गढ़वा में साइबर अपराधियों ने एक साथ 10 करोड़ रुपये की ठगी की है। यह राशि जिले के खरौंधी थाना क्षेत्र के डोमनी नदी में बननेवाले बराज को लेकर विशेष भू-अर्जन विभाग में रैयतों को मुआवजा देने के लिए आई थी। इसे साइबर अपराधियों ने उड़ा लिया। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

साइबर अपराधियों ने जिले के खरौंधी प्रखंड के डोमनी नदी में बनने वाले बराज के लिए रैयतों से अधिग्रहित भूमि का मुआवजा भुगतान के लिए विशेष भू-अर्जन विभाग को सरकार से मिले 10 करोड़ रुपये को बैंक खाता से उड़ा लेने का मामला प्रकाश में आया है।

इसे झारखंड में अब तक सबसे बड़ा साइबर क्राइम बताया जा रहा है। मालूम हो कि राज्य सरकार ने डोमनी नदी पर बराज बनाने की स्वीकृति दी थी। इसका शिलान्यास 2014 में तत्कालीन केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री जयराम रमेश ने तत्कालीन विधायक अनंत प्रताप देव की उपस्थिति में किया था।

शिलान्यास के बाद बराज निर्माण के लिए विशेष-भू-अर्जन विभाग द्वारा भूमि-अधिग्रहण के लिए कार्रवाई शुरू की गई थी।