ये बीमारियां भी महामारी से कम नहीं

ये बीमारियां भी महामारी से कम नहीं
ये बीमारियां भी महामारी से कम नहीं

दिल और कैंसर के बाद फेफड़ों से सम्बंधित बीमारियां भी दुनियां में मौतों का जहां सबसे बड़ा कारण हैं वहीं कोविड-19 महामारी भी फेफड़ों के खराब होने के बड़े खतरे के रूप में सामने आई है। पंचकूला स्थित पारस अस्पताल के फेफड़ों से सम्बंधित रोगों के विशेषज्ञ डॉ. एस. के. गुप्ता और डा. सुमित जैन ने बताया कि दुनिया में लाखों की संख्या में लोग क्रॉनिक ऑब्स्ट्रक्टिव पल्मोनरी डिज़ीज़ यानि श्वसन प्रणाली से जुड़े रोगों से पीड़ित हैं जिनमें एम्फिसेमा, क्रॉनिक ब्रोंकाइटिस , रिफ्रैक्टरी अस्थमा यानि न ठीक होने वाला दमा जैसे रोग प्रमुख हैं।

श्वसन सम्बंधी रोग मौसमी परिवर्तनों, धुएं, धूम्रपान, प्रदूषण, नमोनिया और संक्रमण के कारण उत्पन्न होते हैं जिनसे फेफड़े अवरूद्ध होने लगते हैं और सांस लेने की क्षमता धीरे धीरे कम होती जाती है। थोड़ा सा चलने से सांस लेने में तकलीफ होने या सांस फूलने लगती है जिसके परिणाम स्वरूप शरीर में ऑक्सीज़न की मात्रा कम हो जाती है।

डॉ. गुप्ता और डा. जैन के अनुसार भारत सीओपीडी का गढ़ बनता जा रहा है जहां कुल आबादी का पांच से सात प्रतिशत लोग ऐसी बीमारियों के चपेट में हैं और यह संख्या लगातार बढ़ रही है। सवेर्क्षणों के अनुसार पुरूषों में सीओपीडी के लक्ष्ण 22 प्रतिशत और महिलाओं में 19 प्रतिशत तक पाए गए हैं। इन्होंने बताया कि शुरूआत में ऐसे रोगों का पता नहीं चल पाता है या फिर लोग समुचित जांच कराने में लापरवाही बरतते हैं। ऐसे रोगों का समय रहते अगर पता चल जाए तो इनका इलाज सम्भव है लेकिन समस्या गम्भीर होने पर ये लाईलाज हो जाते हैं और घातक साबित हो सकते हैं।

 विशेषज्ञ डॉक्टरों के अनुसार कोविड-19 संक्रमण के फेफड़ों में चले जाने पर यह इन्हें नुकसान पहुंचा सकता है। यह फेफड़ों की न केवल कार्यक्षमता को प्रभावित कर सकता है बल्कि इसके हिस्सों को डैमेज़ भी कर सकता है। देश में कोविड-19 महामारी के पीड़ितो के ठीक होने के बाद भी उन्हें सांस लेने में समस्या सामने आ रही है। ऐसे में देश में फेफड़ों और श्वसन सम्बंधी रोग भविष्य में तेजी से बढ़ेंगे। डाक्टरों ने बताया कि जब भी किसी व्यक्ति को सांस लेने में तकलीफ महसूस हो तो उसे इसे नज़रंदाज न कर तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए और उसकी उपचार लेना चाहिए।

हैलो दोस्तों! Jharkhand Khabri के साथ जुड़ने के लिए आपका तहे दिल से शुक्रिया. Jharkhand khabri एक ऐसा प्लेटफार्म है, जहां हम आपको मेनस्ट्रीम मीडिया से गायब हुए, असल मुद्दे बताते हैं. Jharkhand Khabri के ज़रिए हम आप तक बिल्कुल ताजा और कड़क ख़बर पहुंचाते हैं, बिल्कुल आपकी सुबह की चाय की तरह. खबरों के डेली डोज की जिम्मेदारी आप Jharkhand Khabri पर छोड़ दिजिए. आप बस जिंदगी के मजे लिजिए.