टीएमसी का प्रभाव नहीं है कमता, आ गई बंगाल में फिर से ममता

टीएमसी का प्रभाव नहीं है कमता, आ गई बंगाल में फिर से ममता

जी हां अब तक जो बंगाल के नतीजे दिखाई दे रहे हैं उससे तो यही लग रहा है की बंगाल के लोगों में दीदी की लोकप्रियता कुछ कम नहीं है। आज बंगाल चुनाव के परिणाम के लिए सुबह 8:00 बजे से ही मतगणना शुरू थी। इसमें 108 मतदान केंद्रों पर मतगणना चालू था। इस विधानसभा चुनाव में कुल 2116 प्रत्याशियों का फैसला होना है।  सुबह से चुनाव को लेकर अलग-अलग राजनीतिक विशेषज्ञों द्वारा अलग-अलग अनुमान लगा रहे थे, पर शाम आते आते सभी के अनुमान स्पष्ट होते दिख रहे हैं। अब तक के परिणाम को देखें इस बार भी बंगाल में हैट्रिक लगाती दिख रही है। तृणमूल कांग्रेस 206 सीटों से आगे चल रही है जिसमें 3 सीटों पर उसने जीत भी हासिल कर ली है। वहीं बीजेपी 83 सीटों से आगे चल रही है जिसमें लगभग 2 सीटों पर उसने भी विजय हासिल कर ली है। कांग्रेस और लेफ्ट के गठबंधन का सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है कांग्रेस को अभी फिलहाल 2 सीटों पर बढ़त मिलती दिख रही है। वहीं लेफ्ट का तो सूपड़ा ही साफ हो गया है। 

बंगाल का चुनाव बेहद खास इसलिए भी रहा क्योंकि इस चुनाव में दोनों मुख्य पार्टियां ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी थी। बीजेपी ने तो प्रधानमंत्री, गृह मंत्री,भाजपा अध्यक्ष सहित सभी केंद्रीय मंत्रियों सहित अपने राज्य के मुख्यमंत्रियों, सबको प्रचार में लगवाया लेकिन सबके अथक प्रयास के बाद भी नतीजा बीजेपी के हाथ से निकलता जा रहा है या यूं कहें कि निकल चुका है। हालांकि बीजेपी की सीटों में बढ़त जरूर है, परंतु कहीं ना कहीं बीजेपी को इस पर आत्मचिंतन करना होगा कि आखिर उससे चूक कहां हुई। वहीं दूसरी ओर ममता बनर्जी अकेली इस पार्टी को जीत का ताज पहनाने में सफल रही हैं। यह कहना गलत नहीं होगा कि ममता बनर्जी ने अपने दम पर बंगाल विधानसभा का चुनाव जीता है और बीजेपी को पटकन दी है। जीत की खुशी से टीएमसी के कार्यकर्ताओं में बेहद खुशी का माहौल है। तो वहीं बीजेपी इस बात की समीक्षा में लगी है कि आखिर उससे भूल कहां हुई।