हत्या के आरोपी पहलवान सुशील कुमार को हो सकती है, फांसी या उम्रकैद की सजा

हत्या के आरोपी पहलवान सुशील कुमार को हो सकती है, फांसी या उम्रकैद की सजा

ओलंपिक विनर पहलवान सुशील कुमार पर दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में 4 मई की रात को सागर धनकड़ हत्याकांड मामले में हुए गिरफ्तार सुशील. पहलवान मार किडनैपिंग, मर्डर और साजिश का आरोप है.जिसके कारण उनको फांसी या उम्रकैद की भी सजा हो सकती है. अब सुशील सलाखों के पीछे जब आ पहुंचे हैं तब उनको अपनी गलती का अहसास हो रहा है. और वह फूट-फूट कर रो पड़े हैं.

इस मामले के बारे में दिल्ली हाई कोर्ट के वकील प्रशांत मनचंदा ने बताया की पहलवान सुशील कुमार पर अपहरण, हत्या और अपराधिक साजिश का आरोप है. इस आरोप को साबित होने पर काम से काम उम्रकैद और अधिकता फांसी की सजा सुनाई जा सकती है. साथ ही जुर्माना भी बसूला जा सकता है. या फिर तीनो मामले की अलग से सजा सुनाई जा सकती है. लेकिन इन तीनो आरोपी में सजा एक साथ चलेगी.इसीलिए काम से काम और अधिकता का ही फॉर्मूला लागू होता है.

सुशील को हुआ अपनी गलती का अहसास

लॉकअप में बंद पहलवान सुशील कुमार ने लॉकअप के अंदर बैठे-बैठे उनको अपनी गलती का पछतावा हो रहा है. और वह लॉकअप में ही फूट-फूट कर रो पड़े हैं. जब पुलिस अधिकारी ने उनको लॉकअप से बाहर निकाला तो पहलवान वरिष्ठ अधिकारी के सामने अपनी गलगी स्वीकार की ओर वह सिर्फ डराना चाहते थे. और साथ ही क्राइम ब्रांच के हिरासत में सुशील पूरी रात जागकर रोते हुए बिताया. और उन्होंने खाना खाने से भी साफ इंकार कर दिया. वही अजय चुप चाप बैठा रहा और खाना उसने भी नही खाया.

सुशील ने बताया

वरिष्ठ अधिकारी के सामने पहलवान ने अधिकारी से बातचीत के कर्म में वह अपनी गलती स्वीकार की ओर बताया की,वह सागर को सिर्फ डराना चाहता था इसीलिए वह सागर और उसके साथियों को पिटा था. और साथ ही वहा पर हथियार भी इसीलिए लाया गया था. और इस घटना का वीडीओ भी खौफ पैदा करने के लिए बनाया गया था. पहलवान ने बताया की घटना के बाद भी वह छत्रसाल स्टेडियम में ही था. मगर छोट ज्यादा लगने से सागर की मौत हो गई तब वहा से पहलवान सुशील और उनके साथी फरार हो गया.